Angry Status in hindi

माचिस किसी दूसरी चीज को
जलाने से पहले खुद को जलाती है,
इसी तरह गुस्‍सा पहले आपको
बर्बाद करता है फिर दूसरे को!!


दुश्मनों से मोहब्बत होने लगी है…
जब से अपनों को अजमाते चले गए॥


कितना गुस्सा आता है जब
आपको कोई बात बताने लगे……
और फिर कहे छोड़ो रहने दो


नमक स्वाद अनुसार और
अकड़ औकाद अनुसार
ही अच्छी लगती है


क्रोध वह हवा है जो
बुद्धि के दीप को बुझा देती है


गुस्से में बोला गया एक भी शब्द
इतना जहरीला होता है
कि प्यार से बोले हज़ार
शब्दों को नष्ट कर देता है


मेरा गुस्सा वहीँ पर ख़तम हो जाता है
जहाँ प्यार से वो पगली बोलती है
“अच्छा बाबा सॉरी “


गुस्सा तो तब आता है
जब लोग बिना Reason बताये Ignore
करने लगते है


शहर भर मेँ एक ही पहचान है
हमारी सुर्ख आँखे,
गुस्सैल चेहरा और नवाबी अदायेँ


कोई भी क्रोधित हो सकता है-
यह आसान है,
लेकिन सही व्यक्ति से सही सीमा में सही
समय पर और सही उद्देश्य के
साथ सही तरीके से क्रोधित होना
सभी के बस कि बात नहीं है
और यह आसान नहीं है


हमें तो अब गुस्सा ही नहीं
आता ना जाने कितनी मोहब्बत है तुमसे


क्रोध पर यदि काबू ना किया जाये,
तो वह जिस चोट के कारण उत्पन्न हुआ
उस से कहीं ज्यादा हानि पहुंचा सकता है


उनका गुस्सा और मेरा प्यार एक जैसा है
क्यूंकि ना तो उनका गुस्सा कम होता है
और ना प्यार


मुझे जिंदगी का तजूर्बा तो नहीं पर इतना मालूम है,
छोटा इंसान बडे मौके पर काम आ सकता है।


सुना है तुम्हे मोहोबत का सोक नहीं है
लेकिन बर्बाद तो तुम कमाल का करती हो।


शक तो था मोहब्बत में नुक़सान होगा पर
सारा हमारा ही होगा ये मालूम न था।


जिनकी नज़रों में हम अच्छे नही,
वो अपनी आँखो का इलाज करवाये।


इरादे सब मेरे साफ़ होते हैं,
इसीलिए,
लोग अक्सर मेरे ख़िलाफ़ होते हैँ।


देख मेरे जुते भी
तेरी नियत से ज्यादा साफ़ है।


रोता वही है
जिसने महसूस कि हो सच्चीमोहब्बत को,
वरना मतलब के रिश्तें रखने वाले
को तो कोईभी नही रूला सकता.


मेरी उम्र इतनी तो नहीं फिर भी..
ना जाने क्यों??
बड़े बड़े आशिक़ मुझे सलाम करते है.


गोली चलाना हर किसी के बस में नही
trigger पे पकड़ और सीने में अकड़ चाहिए


ये भी अच्छा है कि ये सिर्फ़ सुनता है,
दिल अगर बोलता तो क़यामत हो जाती


हारने वालो का भी अपना रुतबा होता हैं …
मलाल वो करे जो दौड़ में शामिल नही थे..


कमियाँ तो बहुत है मुझमे,
पर कोई निकाल कर तो देखे.


वो झूठी कहती रही I Love You,
उससे अच्छी,
तो मेरी सिगरेट निकली जो सच तो कहती है
में जान लेवा हूँ।


मेरे मिज़ाज को समझने के
लिए बस इतना ही काफी है,
मैं उसका हरगिज़ नहीं होता
जो हर एक का हो जाये।


प्यार करता हु
इसलिए फ़िक्र करता हूँ,
नफरत करुगा तो
जिक्र भी नही करुगा।


मेरी ख़ामोशी को कमजोरी ना
समझ ऐ काफिर,
गुमनाम समन्दर ही खौफ लाता है।


हराकर कोई जान भी ले ले, मुझे मंजुर है,
पर धोखा देने वालों को मै दुबारा मौका नही देता।


अच्छे होते हैं बुरे लोग जो
अच्छा होने का नाटक तो नहीं करते।


हर बार जब आप क्रोधित होते हैं,
तब आप अपनी ही प्रणाली में ज़हर घोलते है।


माना की बुरा हु
लेकिन इतना भी नहीं
की याद भी न आउ।


क्रोध मूर्खों के ह्रदय में ही बसता है।


बस यही सोचकर कोई
सफाई नहीं दी हमने,
कि इल्जाम भले ही झूठे हैं
पर लगाये तो तुमने है।


हर ‘जुर्म’ पे उठती हैं
उँगलियाँ मेरी तरफ,
क्या ‘मेरे’ सिवा शहर
में ‘मासूम’ हैं सारे।


भूल सकते हो तो भूल जाओ, इजाजत हैं,
तुम्हे और ना भूल सको तो लौट आना एक और
भूल की इजाजत हैं तुम्हे।


वो आईना देख मुस्कुरा के बोली,
बेमौत मरेगा मुझ पर मरने वाला।


तन्हाईयो से इस कदर डर लगता है
सफ़र ही अब तो हमसफ़र लगता है।


लहरों का सुकून तो सभी को पसंद है,
लेकिन तुफानो में कश्ती निकालने
का मजा ही कुछ और है।

Leave a Comment